कुदरत का करिश्मा | 3 बेटियों की मां ने एक साथ दिया 3 बेटों को जन्म

Sagwara Dungarpur News | Mother of 3 daughters gave birth to 3 sons together in Dungarpur | Dungarpur news in hindi | सागवाड़ा डूंगरपुर में महिला ने एक साथ तीन बच्चों को दिया जन्म, सभी स्वस्थ

सागवाड़ा डूंगरपुर: डूंगरपुर जिले के पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय सागवाड़ा में महिला ने एक साथ तीन बेटों को जन्म दिया. डॉक्टर इस्माइल ने बताया कि प्रीमेच्योर डिलीवरी हुई थी. वहीं, प्रीमेच्योर डिलीवरी होने के चलते बच्चे कमजोर थे. 

Sagwara Dungarpur News: कहते हैं भगवान जब किसी को सुख देते हैं तो छप्पर फाड़ कर देते हैं. ऐसा ही एक मामला यहां राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सामने आया है. यहां तीन बेटियों की मां बेटे की चाह में फिर से गर्भवती हो गई. जब उसने एक साथ तीन पुत्रों को जन्म दिया तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा.

Mother of 3 daughters gave birth to 3 sons together in Dungarpur 

जानकारी के अनुसार मामला डूंगरपुर जिले के सागवाड़ा क्षेत्र का है. सागवाड़ा के पंडित दीनदयाल उपाध्याय सरकारी अस्पताल में 26 नवंबर को एक महिला ने एक साथ तीन बेटों को जन्म दिया

Sagwara, Dungarpur News: राजस्थान के डूंगरपुर जिले के पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय सागवाड़ा में एक महिला ने एक साथ तीन बेटों को जन्म दिया. इधर, 25 दिनों की देख-रेख के बाद बच्चों और प्रसूता को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है. 

महिला ने 26 नवंबर को एक साथ तीन बेटों को जन्म दिया था, लेकिन प्रीमेच्योर डिलीवरी के चलते बच्चों को चिकित्सकों की देख-रेख में रखा गया था. वहीं, महिला के पहले से तीन बेटियां थी. 

यह भी पढ़े

Viral Murga Dance Video 

राजस्थान को मिली नई ट्रेन की सौगात | शेखावाटी से मुंबई के लिए एक और नई ट्रेन शुरू

जिले के पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय सागवाडा के प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉक्टर इस्माइल ने बताया कि हीरा खेड़ी पिंडावल निवासी 29 वर्षीय बदू पत्नी जयंतिलाल के पहले तीन बेटियां है. बेटे की चाह के चलते बदू फिर से गर्भवती हुई, जिसका उपचार सागवाड़ा अस्पताल में चल रहा था. इधर, 26 नवंबर को प्रसव पीड़ा होने पर बदु को सागवाड़ा अस्पताल के महिला एवं शिशु रोग विंग में भर्ती करवाया गया था. 

इसके बाद महिला ने एक साथ तीन बेटों को जन्म दिया. डॉक्टर इस्माइल ने बताया कि प्रीमेच्योर डिलीवरी हुई थी. वहीं, प्रीमेच्योर डिलीवरी होने के चलते बच्चे कमजोर थे, जिसके बाद नवजातों को एसएनसीयू (स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट) में भर्ती कर उनका इलाज शुरू किया गया. 

तीनों भाई स्वस्थ होकर घर पहुंचे , घर मे जसन का माहौल

डॉक्टर और स्टाफ के भरसक प्रयासों से तीनों बच्चों को सही तरीके से उपचार किया गया. आज तीनों बच्चे स्वस्थ हैं. इधर, तीनों बच्चों के स्वस्थ होने के बाद सागवाड़ा अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. इधर तीन बेटियों के बाद एक साथ तीन बेटों के मिलने से बदु और उसके परिवार में खुशी का माहौल है. 

अन्य लोगों को शेयर करे

Leave a Comment